समर्थक

बुधवार, 20 अक्तूबर 2010

दो शेर

*दो शेर*
_______________
मालिक तेरे अता ओ करम की नहीं है हद
ये दामन ए मुराद तो छोटा ही पड़ गया
**************************************
**************************************

बख़्शे अब्बास ने अल्फ़ाज़ ओ ख़यालात मुझे
और मजालिस ने अता कर दिये जज़्बात मुझे

***************************************
**************************************