समर्थक

शनिवार, 9 जनवरी 2010

सलाम 
__________________
मुस्लिमे ज़ीशान तेरी हर रेफाक़त को सलाम 
तेरे फ़ह्मो फ़िक्र में पिन्हाँ सदाक़त को सलाम 


बेअदब जो थी ज़ईफा हो गयी बीमार जब
की ख़बर गीरी मुहम्मद ,इस अयादत को सलाम 


मुफ़लिस ओ नादार को गंदुम की दे कर बोरियां 
ख़ुद किया फ़ाक़ा अली ,ऐसी केफालत को सलाम 


मुस्कुरा कर फ़तह की बेशीर ने जंगे अज़ीम 
काएदे तिफ्लाने आलम की क़यादत को सलाम 


ज़ुल्जनाहे शाह अस्पे बावफा तेरा ख़ुलूस
तू भी प्यासा ही रहा ,तेरी एआनत  को सलाम 


मुनहमिक सजदों में शह अहबाब थे सीना सिपर 
जाँ निसाराने शहे दीं की इबादत को सलाम 


रोक ली शब्बीर ने तलवार जब आई नेदा 
ऐ मुजाहिद तेरे इस सब्रो क़ेना अत को सलाम 


खानदाने हैदरी में हर कोई जर्रार था 
कर्बला वाले शहीदों की शहादत को सलाम 


अपने क़ातिल की बंधी मुश्कों को खुलवाकर 'शेफ़ा'
दे दिया इंसाफ़ को  मानी इमामत को सलाम 
-_________________________________________________ 





रविवार, 3 जनवरी 2010

सलाम
_________________
यूँ सभी पैग़म्बरों की ज़ाते आला और है
हैं रसूले पाक अफ़ज़ल उनका रुतबा और है

अकरुबा भूखे रहे साएल को रोटी दे दिया
ये है किरदारे अली बाक़ी की दुनिया और है

जब हुए अब्बास के बाज़ू क़लम इक शोर था 
बावफ़ा दुनिया में  ऐसा कोई देखा और है

यूँ तो इस दुनिया में तक़रीरें बहुत सब ने सुनीं
शाम के दरबार में ज़ैनब का ख़ुतबा और है

बाद मरने के तेरे बेटा ये माँ क्योंकर जिए
अब हुआ मालूम के मर मर के जीना और है

है क़लम हथियार मेरा उनका है तेग़ ओ तबर 
"मेरी दुनिया और है दुनिया की दुनिया और है "

"  " ये तरह दी गयी थी