समर्थक

गुरुवार, 19 नवंबर 2009

एक कता

एक कता
__________________
जो मुझ को कुवते गोयाई तू ने की है अता
तो जुर अतेंभी अता कर कि सच को सच कह पाऊं
मैं इस गुनाह की बस्ती से चंद कम कर लूँ
जो राहे मीसमे तम्मार पे क़दम रख पाऊं
_________________

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें