समर्थक

सोमवार, 21 दिसंबर 2009

                                                                            सलाम
____________
तू इल्म के दरिया में शनावर की तरह है
और हुब्बे अली ही तेरे यावर की तरह है

वो जिस की बदौलत हैं ज़मीं आसमां रौशन
अब्बास तो इस्लाम के खावर की तरह है

बातिल की जो राहों पे चला मैं ने ये पाया
इक जिस्म नहीं रूह भी लागर की तरह है

शब्बीर पे सब बेटों की क़ुर्बानियाँ दे दीं
माँ क्या कोई अब्बास की मादर  की तरह है

इस दश्त में शाह लाये थे चुन चुन के वतन से
हर कोई यहाँ लाल ओ जवाहर की तरह है

किस तर्ह गुनाहों की तलाफ़ी हो 'शेफ़ा' अब
हर एक गुनह शजर ए तनावर की तरह है  


4 टिप्‍पणियां:

  1. बातिल की जो राहों पे चला मैं ने ये पाया
    इक जिस्म नहीं रूह भी लागर की तरह है
    इस्मत, तुम्हारे इस ब्लॉग पर आ के बहुत सुकून मिलता है...लोबान और अगर की सुगंध सा अहसास...बहुत पावन सा लगता है. केवल लिखने के लिये नहीं लिख रही, यही सच है. तुम्हारी ये रचनायें, तुम्हारे अन्य गीत-गज़ल से कहीं बहुत बेहतर और सधी हुई हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस्मत साहिबा,
    इस ब्लाग पर आकर हमें अलग ही अहसास होता है..
    वंदना जी ने अपने शब्दों में काफी कुछ कह दिया है

    शब्बीर पे सब बेटों की क़ुर्बानियाँ दे दीं
    माँ क्या कोई अब्बास की मादर की तरह है
    क्या खूब कहा है आपने
    शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

    उत्तर देंहटाएं
  3. vandana ,jab tum is blog par ati ho to bahut achchha lagta hai kyonki tum bahut achhi tarah samajh kar comment karti ho

    shahid sahab ,shukriya

    उत्तर देंहटाएं
  4. वो जिस की बदौलत हैं ज़मीं आसमां रौशन

    अब्बास तो इस्लाम के खावर की तरह है
    इस्मत जी अल्लाह आपकी इस मुहब्बत इ मौला अब्बास को कुबूल करे. इसको बार बार पढने का दिल चाहता है. आँखें नाम हो जाती हैं . अल्लाह आप की हर परेशानी को दूर करे

    उत्तर देंहटाएं